Headlines
Loading...
Recently Updated
तेरे कूंचे पे आकर भी नहीं अब दिल बहलता है

तेरे कूंचे पे आकर भी नहीं अब दिल बहलता है

हिन्दी कविता और ग़ज़ल मुझे विद्यार्थी जीवन से ही ग़ज़ल का शौक रहा। सुनना - सुनाना आदत सी हो गयी थी। फिर …
मशक्क़त का सबब अपना कभी जाया नहीं जाता | मेरी हिंदी कविता और ग़ज़ल

मशक्क़त का सबब अपना कभी जाया नहीं जाता | मेरी हिंदी कविता और ग़ज़ल

प्रयास
मेरी हिंदी कविता और ग़ज़ल
मशक्क़त का सबब अपना कभी जाया नहीं जाता

मशक्क़त का सबब अपना कभी जाया नहीं …
तुमको मेरा शत शत प्रणाम

तुमको मेरा शत शत प्रणाम

हिन्दी कविता
तुम को मेरा शत शत प्रणाम


हे आदि देव हे  महादेवअग जग में तेरा रूप नाममन अर्पित है तव चरणों…
 अंतर्मन के दो शब्द

अंतर्मन के दो शब्द

हिन्दी कविताअंतर्मन के दो शब्द

रचनाधर्मिता चेतन मन का स्वभावसिद्ध अभिज्ञान है। चिंतन-मनन इसके उपांग …
मन के जीते जीत मिले

मन के जीते जीत मिले

prayas for everone in hindi | हिन्दी कविता 
मन के जीते जीत मिले
मन के हारे हार बंधुओं  मन के जीते जीत …